Search This Blog

Wednesday, December 28, 2022

Priyanka Kumari: The First Woman Bus Driver Of Uttar Pradesh Government Transport|

Image of Priyanka_Kumari_Sharma the first female bus driver of UP Govt. India..
Priyanka_Kumari_Sharma.

Priyanka Kumari Sharma, Posted As The First Female Bus Driver Of UP Government Roadways, Got A Job After Struggling.


Sandra Bullock

In Hollywood, a thrilling movie has made in the year 1994 named Speed. In this movie, Annie(played by Sandra Bullock), the heroine, is suddenly forced to drive a bus, as she has never driven such a large vehicle before, except for a Buick car, yet successfully manages to drive the bus until a bomb planted on the bus goes off. She, despite no experience, jumped over the breaking part of the flyover successfully. What an exciting scene it was! Well, it was just a movie that applied trick photography, but in real life, today's women are driving, be it commercial or fighter planes, rickshaws, trucks, or passenger buses.

An introduction of Priyanka Kumari Sharma:

Everyone knows Priyanka Gandhi, who is active in Indian politics, and Priyanka Chopra, a famous actress in the film industry, but there is also a Priyanka Kumari Sharma, who is driving a bus full of passengers on the roads of UP state. This woman is a widow, and being a widow in Indian society is the most unfortunate phase of a woman's life, even today. With self-confidence, courage, and proper guidance, anybody can convert his life's misfortune into good fortune, even if she is a widow, like Priyanka Sharma.

The life-changing misfortune of her:

Priyanka Kumari Sharma (31) is a resident of Hardauri village in the Banka district of Bihar. She was married to Rajeev Singh, and they have two sons, Anand Raj (13) and Nipun Raj (11). Her husband used to work as a laborer in Dilshad Garden, Delhi. Unfortunately, he got addicted to alcohol and died due to kidney failure. Priyanka, a widow, was alone with the responsibility of her children. Priyanka was just 8th pass, but instead of accepting her bad luck, she decided to meet the challenge. She worked as a laborer in a factory in Delhi; and also started a tea stall. But she was unable to earn enough amount to educate her children. So she accepted a job as a laborer in a transport company where she found guidance and financial support from the truck driver Subhash Yadav. He advised Priyanka to learn about truck driving. Priyanka joined truck driving training at Sanjay Gandhi Transport. After the training, she worked as a driver's assistant, learned the necessary skill of driving and basic truck repairs, and obtained a driving license after four years.

UP Female Bus Driver: प्रियंका बनीं UP रोडवेज की पहली महिला बस ड्राइवर, कड़े संघर्षों ने दिलाई सफलता

Her achievements as a truck driver:

Priyanka drove from Delhi to almost all major cities of India, Mumbai, Pune, Goa, Bangalore, Assam, and many other places with her truck. Isn't it a more exciting reality than the scene with Annie in the movie Speed? In 2022, the State Government of UP published an advertisement for the job of a diver for women. Priyanka applied for and had selected along with 70 women. Out of the first 27 women, Priyanka became the first woman bus driver of the UP Government, appointed as the bus driver at Kosambi Bus Depot, UP. She is the first-ever woman bus driver in the UP government; hats off!

Let's cite those women who shave their heads after being widowed and spend an unknown life on the banks of the Ganga river wearing white clothes. Priyanka Kumari Sharma has emerged as an icon for those widows and Indian women.

Today sons of Priyanka are doing studies by staying in the hostel. Her parents and brother, who broke up with her over her truck driving job, are now happy with Priyanka's success.


Widows of Varanasi - a video by The Loomba Foundation:

Thursday, December 8, 2022

Inspirational Story Of 5 Women Pilots Of Modern India| Aadhunik Bhaarat Kee 5 Mahila Viman Chalak Ki Prerak Kahaanee |

Note:

This article should written in two part. One for past 5 pilots and second for that of 2022.
Each independent post for each pilots(but not all),  with as many details; strictly in English

Air_India_Boeing_777

आज के आधुनिक भारत में महिलाएं हर क्षेत्र में अग्रणी हैं। एविएशन सेक्टर में भी महिलाएं पीछे नहीं हैं, चाहे वो कॉमर्शियल एविएशन सर्विसेज की पायलट हों या फिर मिलिट्री की एयरफोर्स विंग।

उड्डयन क्षेत्र में महिलाओ की सिद्धि और हिस्से
का ब्यौरा निम्न लिखित है।

  • नागरिक उड्डयन मंत्रालय, भारत सरकार के आंकड़ों के अनुसार, 6 दिसंबर, 2021 को 17,726 पंजीकृत पायलटों में से भारत में 2,764 पायलट महिलाएं हैं। "इंटरनेशनल सोसाइटी ऑफ वीमेन एयरलाइन पायलट्स की 2020 की रिपोर्ट:
  • इंटरनेशनल सोसाइटी ऑफ वुमन एयरलाइन पायलट्स की माहिती; अनुसार भारत में महिला एयरलाइन पायलटों का प्रतिशत अन्य देशो से ज्यादा  है।
  • भारत में 12.4% महिला पायलट है, जब की आयरलैंड में 9.9%, दक्षिण अफ्रीका में 9.8%, कनाडा और जर्मनी में 6.9%, ऑस्ट्रेलिया में 5.8%, यूएस में 5.4%, और यूके में 4.7% महिला पायलट है।
  • भारतीय छोटी क्षेत्रीय एयरलाइंस में महिलाऐं 13.9% है।   
  • भारतीय कार्गो एयरलाइंस का महिला अनुपात सबसे कम सिर्फ 8.5% है।"

प्रारंभिक भारतीय काल से उड्डयन क्षेत्र में अग्रणी
पायलटों का संक्षिप्त परिचय यहां दिया गया है।

अगर ऐतिहासिक तथ्यों को जांचे तो भारतीय हवाई उड्डयन के क्षेत्र में महिलाओं का आगमन अंग्रेजो के दौर से ही हो गया था।

जेआरडी टाटा की बहनें सायला और रोदाबेह -
भारत में फ्लाइंग लाइसेंस हासिल करने वाली पहली महिलाए।:

JRD Tata's sisters Sayla and Rodabeh - the first women to get a flying license in India.
JRD Tata's sisters Sayla and Rodabeh - the first women to get a flying license in India.

ब्रिटिश भारत में सब से पहले पायलट का लाइसेंस प्रवत करने वाली दो पारसी महिलाए थी: सायला और रोदाबेह, जो हमारे स्वर्गीय उद्योगपति जे.आर.डी. टाटा की बहने थी, किन्तु उनका लाइसेंस ब्रिटिश इंडिया ने दिया गया था।

श्रीमती हिजाब इम्तियाज अली(1908-1999)-
1936 में अपना आधिकारिक पायलट लाइसेंस प्राप्त करने वाली
पहली महिला मुस्लिम पायलट:

Hijab Imtiaz Ali (1908–1999) was a writer, editor and diarist. She is a well known name in the Urdu literature and a pioneer of romanticism in Urdu. She is also considered as the first female Muslim pilot after she obtained her official pilot license in 1936.
Hijab Imtiaz Ali (1908–1999)

हिजाब ने लाहौर फ्लाइंग क्लब में प्रशिक्षण लिया और क्लब द्वारा आयोजित कई प्रतियोगिताओं में भाग लिया। हिजाब ने 1936 में अपने पायलट का लाइसेंस प्राप्त किया। 1939 में, द इंटरनेशनल वूमेंस न्यूज के रिपोर्ट अनुसार बेगम हिजाब इम्तियाज अली ब्रिटिश साम्राज्य में एक हवाई पायलट के रूप में 'ए' लाइसेंस प्राप्त करने वाली पहली भारतीय  महिला थी, जो मुस्लिम महिलाओ में भी पहली थी। वैसे तो सरला ठकराल को पहली भारतीय पायलट के रूप में समजा जाता है, लेकिन , सरला और हिजाब दोनों ने एक ही समय में पायलट लाइसेंस प्राप्त किया था, जिस में हिजाब पहली थी।

श्रीमती उर्मिला पारिख:


1932 में, उर्मिला के परीख पायलट लाइसेंस पाने वाली पहली भारतीय महिला बनीं।

श्रीमती सरला ठकराल:

Sarla_Thukral earned an aviation pilot license in 1936 at the age of 21 and flew a Gypsy Moth solo.
Sarla_Thukral earned an aviation pilot license in 1936 at the age of 21 and flew a Gypsy Moth solo.

सरला ने 1936 में 21 साल की उम्र में एविएशन पायलट लाइसेंस हासिल किया और अकेले जिप्सी मॉथ उड़ाया। प्रारंभिक लाइसेंस प्राप्त करने के बाद, उन्होंने लाहौर फ्लाइंग क्लब के स्वामित्व वाले विमान में एक हजार घंटे की उड़ान पूरी की थी।

श्रीमती प्रेम माथुर - व्यावसायिक विमान उड़ाने वाली पहली भारतीय महिला:

Prem Mathur is the first Indian woman commercial pilot and started flying for Deccan Airways. She obtained her commercial pilot's licence in 1947. In 1949, she won the National Air Race.
The first Indian woman commercial pilot: Prem Mathur.

श्रीमती माथुर ने इलाहाबाद फ्लाइंग क्लब से 37 वर्ष की आयु में 1947 में पायलट लाइसेंस प्राप्त किया। 1947 में हैदराबाद में डेक्कन एयरवेज में नौकरी पाने से पहले उन्हें आठ एयरलाइनों द्वारा अस्वीकार कर दिया गया था। उन्हें 38 साल की उम्र में नौकरी की पेशकश की गई थी, जहाँ वह व्यावसायिक विमान उड़ाने वाली पहली भारतीय महिला बनीं। उन्होंने सह-पायलट के रूप में अपना पहला विमान उड़ाया। डेक्कन एयरवेज में अपने करियर के दौरान, उन्होंने इंदिरा गांधी, लाल बहादुर शास्त्री और लेडी माउंटबेटन जैसे हाई-प्रोफाइल लोगों को उड़ाया।
माथुर विमान पर पूर्ण नियंत्रण चाहते थे, और आवश्यक उड़ान घंटे पूरे करने के बावजूद, कंपनी ने उन्हें मना कर दिया।
इसलिए, वह दिल्ली चली गईं जहां वह जी.डी. बिड़ला की निजी जेट पायलट बन गईं। बाद में, वह 1953 में इंडियन एयरलाइंस में शामिल हो गईं और अपनी सेवानिवृत्ति तक वहां काम किया।

तो ये वो महिलाएं हैं जिन्होंने एविएशन के क्षेत्र में महिलाओं की भावी पीढ़ी का मार्ग प्रशस्त किया।

आधुनिक भारत की 5 महिला पायलटों की
प्रेरणादायक कहानी।

जेनी जेरोम - केरल की पहली महिला वाणिज्यिक पायलट:

Kerala: 23-Year-Old Jeni Jerome Becomes First Woman Commercial Pilot Of The State.
Jeni Jerome First Woman Commercial Pilot Of Kerala.

मई 2021 में, 23 वर्षीय जेनी जेरोम तब चर्चा में आई जब केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने एक फेसबुक पोस्ट में उनकी प्रशंसा की कि कैसे उन्होंने परिस्थितियों के खिलाफ संघर्ष किया, अपने सपनों को साकार किया और केरल की पहली व्यावसायिक महिला पायलट के रूप में उभरीं, और अपनी पीढ़ी की महिलाओं और आम लोगों के लिए मिसाल कायम की। जेनी 23 मई 2021 को शारजाह से तिरुवनंतपुरम के लिए, सह-पायलट के रूप में एयर अरेबिया G9 449 की अपनी पहली उड़ान में शामिल हुईं।
23 वर्षीय जेरोम तिरुवनंतपुरम के एक तटीय गांव कोचुथुरा के मूल निवासी हैं। वर्तमान में अजमान की रहने वाली, वह बचपन से ही हमेशा आसमान में ऊंची उड़ान भरने का सपना देखती थी। वह दक्षिणी राज्य के तटीय क्षेत्र की पहली कमर्शियल पायलट हैं।
उसके पिता मध्य पूर्व में ब्रिटिश कंपनी लैम्प्रेल में निर्माण प्रबंधक के रूप में काम करते हैं। कोचुथुरा में जन्मी जेरोम ने अपनी शिक्षा संयुक्त अरब अमीरात में पूरी की। 12वीं पास करने के बाद उन्होंने एविएशन एकेडमी ज्वाइन की थी। उसके परिवार ने बेटी के सपनों का समर्थन किया और प्रोत्साहित किया कि एक दिन वह समाज के लिए एक रोल मॉडल बनेगी।
[केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने भी फेसबुक पर उनके बारे में लिखा था कि जेरोम दूसरे युवाओं के लिए अपने सपने पूरे करने की प्रेरणा थे।]
[जेनी की उपलब्धि की तिरुवनंतपुरम के सांसद शशि थरूर ने भी सराहना की, जिन्होंने एक फेसबुक संदेश में इस उपलब्धि को "बचपन के सपने का साकार होना" कहा। जेनी जेरोम जेनी जेरोम]

अनुप्रिया लकड़ा - ओडिशा की पहली आदिवासी महिला पायलट:

सितंबर 2019 में ओडिशा के माओवाद प्रभावित मल्कानगिरी जिले की एक आदिवासी महिला अनुप्रिया लकड़ा पिछड़े क्षेत्र से पहली महिला पायलट बनीं।
ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने अनुप्रिया को उनकी सफलता के लिए बधाई दी थी, और कहा था कि "यह उनके द्वारा समर्पित प्रयासों के माध्यम से हासिल किया गया था और उनकी दृढ़ता कई लोगों के लिए एक उदाहरण है।"
उनके पिता मरिनियास लकड़ा ओडिशा पुलिस में कांस्टेबल हैं और मां जमाज यास्मिन लकड़ा गृहिणी हैं। अनुप्रिया ने मैट्रिक की पढ़ाई मल्कानगिरी के एक कॉन्वेंट से और हायर सेकेंडरी की पढ़ाई सेमिलिगुड़ा के एक स्कूल से पूरी की। उसने इंजीनियरिंग की पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी और 2012 में भुवनेश्वर में एक एविएशन अकादमी में शामिल हो गई।
23 साल की अनुप्रिया लाकड़ा का पायलट बनने का सपना सात साल बाद हकीकत बन गया है, जब उन्होंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी और 2012 में एक एविएशन अकादमी में शामिल हो गईं।
उन्हें सह-पायलट के रूप में एक निजी एयरलाइन में नौकरी मिली, और वह ओडिशा के आदिवासी जिले की पहली आदिवासी महिला पायलट बनीं।

कैप्टन आरोही पंडित - अटलांटिक महासागर को पार करने वाली दुनिया की पहली महिला:

Aarohi Pandit is the world's first woman and youngest pilot to cross the Atlantic and Pacific Oceans solo in a light-sport aircraft.
Aarohi Pandit is the world's first woman and youngest pilot to cross the Atlantic and Pacific Oceans solo in a light-sport aircraft.

15 अक्टूबर, 2021 को 23 साल की पायलट कैप्टन आरोही पंडित ने कई तरह से इतिहास रच दिया।
वह जुहू रनवे पर हल्के वजन के विमान (माही वीटी एनबीएफ, एक पिपिस्ट्रेल साइनस वजन केवल 330 किलोग्राम) में उतरी, और इस तरह जेआरडी टाटा को श्रद्धांजलि दी, जिन्होंने 1932 में भारत की पहली व्यावसायिक उड़ान भरी थी, और मधापार की महिलाओं को भी, जिन्होंने भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान 72 घंटे के भीतर भुज रनवे का पुनर्निर्माण किया था।
आरोही ने बिना जीपीएस, ऑटोपायलट या कम्प्यूटरीकृत उपकरण के विमान को चलाया, हमेशा औसत समुद्र तल से 7,000 फीट ऊपर उड़ता रही। जुहू पहुंचने पर, उनका पारंपरिक जल सलामी के साथ स्वागत किया गया और भारतीय महिला पायलट एसोसिएशन (IWPA) पायलटों द्वारा सम्मानित किया गया, जिन्होंने आरोही के प्रति सम्मान दिखाने के लिए गुलाबी रंग के कपड़े पहने थे। उन्होंने माधापुर की माताओं के पत्र अपने साथी पायलट कीथेयर मिस्क्विट्टा को सौंपे।

आरोही का जन्म 10 फरवरी 1996 को गुजरात में हुआ था और उनका पालन-पोषण महाराष्ट्र राज्य में हुआ। उसके शौक खेल, पढ़ना था। और घुड़सवारी। वह बहुत ऊंची उड़ान भरने के सपने देख रही थी।17 साल की उम्र में अपने स्कूल के दिनों के बाद, उन्होंने महाराष्ट्र के फ्लाइंग स्कूल, द बॉम्बे फ्लाइंग, कॉलेज ऑफ एविएशन (बीएफसी) में दाखिला लिया।
आरोही का करियर 21 साल की उम्र में शुरू हुआ जब उन्हें लाइट-स्पोर्ट एयरक्राफ्ट पर महिला अधिकारिता अभियान के दौर-द-वर्ल्ड पार्ट के लिए चुना गया।
उसने 30 जुलाई, 2018 को सह-पायलट के साथ यात्रा शुरू की, भारत के पटियाला हवाई अड्डे से उड़ान भरी और पाकिस्तान, ईरान, तुर्की, सर्बिया, स्लोवेनिया, जर्मनी, फ्रांस, ब्रिटेन और आइसलैंड के ऊपर उड़ान भरी। आपकी उड़ान के दौरान वह 27 स्टॉप पर रुकी।

6 सितंबर, 2018 को, उन्होंने WE! का एकल चरण शुरू किया!

एक विशेष अभियान, जिसमें उन्होंने चार विश्व रिकॉर्ड बनाए। वह 13 मई, 2019 को स्कॉटलैंड से कनाडा के हॉफन, रिक्जेविक, और ग्रीनलैंड में कुलसुक, नुउक में रुकने वाली स्कॉटलैंड से कनाडा तक अटलांटिक महासागर में उड़ान भरने वाली दुनिया की पहली महिला बनीं।
इसके अलावा, वह 4 मई, 2019 को, अभियान की सबसे यादगार और साहसी उड़ानों में से एक, लाइट-स्पोर्ट एयरक्राफ्ट में खतरनाक ग्रीनलैंड आइस कैप पर उड़ान भरने वाली दुनिया की पहली महिला भी बनीं।
इसके बाद उसने पूरे कनाडा में उड़ान भरी, उत्तर पूर्व में इकालुइत से लेकर दक्षिण तक, और पश्चिम और उत्तर में रॉकीज़ के ऊपर से अलास्का तक, 9 कनाडाई प्रांतों में 22 उड़ानों में तेज़ हवाओं और जंगल की आग के बीच विमान संचालन किया; और विश्व रिकॉर्ड बनाया।
21 अगस्त, 2019 को, उन्होंने फाउंडेशन में अपने और सभी के लिए एक पोषित सपना हासिल किया, जब उन्होंने पिपिस्ट्रेल साइनस 912 विमान से नोम, अलास्का से सुदूर पूर्व रूस में अनादिर तक शक्तिशाली प्रशांत महासागर के ऊपर नॉनस्टॉप उड़ान भरी; और एक और विश्व रिकॉर्ड बनाया।

उनके नाम चार विश्व रिकॉर्ड हैं:

  • हल्के खेल वाले विमान में अटलांटिक महासागर के पार अकेले उड़ान भरने वाली पहली महिला पायलट।
  • हल्के खेल वाले विमान में अकेले प्रशांत महासागर में उड़ान भरने वाली पहली महिला पायलट।
  • लाइट स्पोर्ट एयरक्राफ्ट पर ग्रीनलैंड आइस कैप्स में एकल उड़ान भरने वाली पहली महिला पायलट।
  • हल्के खेल वाले विमान में पूरे कनाडा में एक क्रॉस कंट्री उड़ान भरने वाली पहली महिला पायलट।

आरोही द्वारा प्राप्त पुरस्कार और मान्यता:

  • जुलाई 2019 में, आरोही पंडित को एबीपी माझा सम्मान पुरस्कार - यंग अचीवर श्रेणी द्वारा सम्मानित किया गया।
  • नवंबर 2019 में, एयरोनॉटिकल सोसाइटी ऑफ इंडियन ने पंडित को उनकी अनुकरणीय उपलब्धि के लिए सम्मानित किया।
  • एबीपी न्यूज सम्मान पुरस्कार 2019
  • फरवरी 2020 में, पंडित को बॉम्बे के प्रतिष्ठित रोटरी क्लब द्वारा यंग वुमन अचीवर के लिए उमा जैन अवार्ड 2020 से सम्मानित किया गया।
  • मार्च 2020 में, पंडित को श्रीमती द्वारा एबीपी शक्ति सम्मान पुरस्कार के लिए भी सम्मानित किया गया था। स्मृति ईरानी - महिला एवं बाल विकास मंत्रालय।

एनी दिव्या - दुनिया की सबसे कम उम्र की महिला जिसने बोइंग 777 का संचालन किया:

एनी का जन्म (1987) एक तेलुगु भाषी परिवार में हुआ था। उसके पिता ने भारतीय सेना में सेवा की। परिवार भारतीय राज्य पंजाब में पठानकोट में सेना के आधार शिविर के पास रहता था। उसके पिता के सेवानिवृत्त होने के बाद, उनका परिवार आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में बस गया, जहाँ एनी ने स्कूल में पढ़ाई की।
17 साल की उम्र में अपनी स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद, उन्होंने इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान अकादमी (IGRUA), उत्तर प्रदेश के फ्लाइंग स्कूल में दाखिला लिया।
19 साल की उम्र में उन्होंने अपना प्रशिक्षण पूरा किया और एयर इंडिया के साथ अपना करियर शुरू किया। उसने प्रशिक्षण के लिए स्पेन की यात्रा की और बोइंग 737 उड़ाया। 21 साल की उम्र में उसे आगे के प्रशिक्षण के लिए लंदन भेजा गया, जहाँ उसने बोइंग 777 उड़ाना शुरू किया।
महज 21 साल की उम्र में, कैप्टन एनी दिव्या 2018 में बोइंग 777- दुनिया का सबसे लंबा ट्विन-जेट विमान उड़ाने वाली दुनिया की सबसे कम उम्र की कमांडर बन गईं।
दिव्या अब भारत से शिकागो, न्यूयॉर्क और सैन फ्रांसिस्को सहित अमेरिकी शहरों के लिए 14 से 16 घंटे की नॉन-स्टॉप यात्रा, ज्यादातर लंबी दूरी की उड़ानों की कमान संभालती हैं।
उड्डयन क्षेत्र में लैंगिक पूर्वाग्रह पर, एनी को लगता है कि देश में कथा बदल रही है, और सही भी है, क्योंकि अधिक महिलाएं उद्योग में शामिल हो रही हैं।

एयर इंडिया की कैप्टन जोया अग्रवाल- जिन्होंने सैन फ्रांसिस्को से बेंगलुरू तक के सबसे लंबे हवाई रूट पर उड़ान भरी:

2021 में, ज़ोया अग्रवाल ने हिंदू कुश पर्वत श्रृंखला - दुनिया के सबसे लंबे नॉन-स्टॉप हवाई मार्गों में से एक, सैन फ़्रांसिस्को से बेंगलुरु तक की पहली उड़ान भरने वाली एक महिला चालक दल की कप्तानी की।
जनवरी 2021 में सभी महामारी निराशा और कयामत के बीच, यह खुशी की खबर थी कि एयर इंडिया के एक विमान ने सभी महिला कॉकपिट क्रू के साथ सैन फ्रांसिस्को से बेंगलुरु के लिए उड़ान भरी, और बेंगलुरु के केम्पेगौड़ा अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर सफल लैंडिंग की।
फ्लाइट का नेतृत्व कैप्टन जोया अग्रवाल कर रही थीं। उनके साथ तीन महिला सह-पायलट, कैप्टन पापागरी थनमई, कैप्टन आकांक्षा सोनावरे और कैप्टन शिवानी मन्हास थीं।
जबकि यह उड़ान अपने आप में ऐतिहासिक थी, कैप्टन ज़ोया ने 2013 में बोइंग-777 उड़ाने वाली पहली महिला होने का भी इतिहास रचा था, और हाल ही में, उन्होंने दुनिया की सबसे लंबी व्यावसायिक उड़ान को सफलतापूर्वक पूरा किया।
एक साक्षात्कार में, ज़ोया ने अपनी यात्रा का वर्णन किया जो एक बच्चे के रूप में शुरू हुई जो छोटी-छोटी उड़ने वाली वस्तुओं से आकर्षित थी। वह 2013 में बोइंग-777 उड़ाने वाली दुनिया की पहली महिला पायलट बनीं।

महामारी के दौरान भारत का वंदे भारत मिशन और जोया की भूमिका:

महामारी के दौरान, सरकार ने चरणबद्ध तरीके से विदेशों में फंसे भारतीय नागरिकों की वापसी की सुविधा के लिए 7 मई, 2020 को वंदे भारत मिशन के तहत अभियान शुरू किया था। वंदे भारत मिशन को हाल के इतिहास में किसी भी देश द्वारा सबसे बड़े नागरिक प्रत्यावर्तन अभ्यासों में से एक माना जाता है। उन्होंने COVID-19 के प्रकोप के मद्देनजर भारत सरकार के वंदे भारत मिशन में भाग लिया था और विदेशों में फंसे 14,000 से अधिक भारतीयों को वापस लाया था।
सैन फ्रांसिस्को में यूएस बेस एसएफओ म्यूजियम लुइस ए. टर्पेन एविएशन म्यूजियम एंड लाइब्रेरी के अधिकारियों ने कैप्टन जोया अग्रवाल की विमानन क्षेत्र में उनकी उल्लेखनीय भूमिका, उनके जुनून और दुनिया भर में महिलाओं को सशक्त बनाने के उनके कार्य के लिए प्रशंसा की।
उन्होंने लाखों युवा महिलाओं और लड़कियों को अपनी महत्वाकांक्षाओं को प्राप्त करने के लिए प्रेरित किया है।


||अस्तु||

Saturday, April 30, 2022

Monday, March 28, 2022

A Siddi Woman Hirabai Lobi Prospered The Lives Of Many People| A Sublime Example Of #WomenEmpowerment|

The radio turned out to be the means of education to Hirbai-which impacted the lives of thousands of illiterate villagers.
The radio turned out to be the means of education to Hiraben
which impacted the lives of thousands of illiterate villagers.

The dwelling of Sidi community in India:

    The Siddi, a race of African descent, inhabits many cities and villages in India. They are a hardworking community. Siddi people like to dance and sing. Their distinctive dance, known as DHAMAAL,

Sunday, March 27, 2022

6 Women Social Welfare Reformers Of Gujarat| Women-Empowerment|

The-Hard-Life-Style-Of-Salt-Workers.
The-Hard-Life-Style-Of-Salt-Workers.
Serving for social welfare is a sacred act. Those who engage in such work do not expect any reward or praise. Social work requires patience and hard work. Many social workers in the country are working for the welfare of the needy people of a democratic nation. Although the list is very long here, some women social workers of Gujarat have published information for information and education. I hope you like this post.

Saturday, March 26, 2022

Friday, March 25, 2022

Highly Educated Muslim Young Girl Became Sarpanch| Women Empowerments|

Highly-Educated-Muslim-Young-Girl-Became-Sarpanch||WomenEmpowerments||
Highly-Educated-Muslim-Young-Girl-Became-Sarpanch|WomenEmpowerments||

After completing MBBS, she became the most educated woman sarpanch at the age of 24 for the development of the village.